Share it
                                                                                 रीडिंग टाइम   2mins 58 sec 

बादाम

badam ke fayde
हेल्थी फ़ूड में एक चीज है बादाम ( ALMOND ) दिनों दिन खाने में इसका महत्व  बढ़ रहा है कहते है ईरान के बादाम सबसे  बेहतर होते है  जैसे की मामरा बादाम ये बहोत ही स्वादिष्ट और सेहतमंद है जो ईरान से आता  है फ़िलहाल ईरान ,कैलिफ़ोर्निया,स्पेन ,टर्की ,ऑस्ट्रेलिआ में सबसे ज्यादा बादाम का प्रोडक्शन होता है भारत में कश्मीर ,हिमाचल प्रदेश में इनका उत्पादन होता है। ड्राई फ्रूट्स में सबसे ज्यादा फायदे बादाम से ही मिलते हैं। बादाम  से दूध , खीर ,पुड्डिंग्स ,एनर्जी ड्रिंक,बादाम पाउडर ,बर्फी ,केक  आदि स्वीट्स भी बनते है ,बहोत सारी  रेसिपीज़ में डेकोरेशन के लिए भी इसका उपयोग करते है।  आयुर्वेद  में औषधि के रूप में भी इसके  फ़ॉर्मूलेशन्स बनते है। बादाम एक बढ़िया स्नैक्स है पोषकतत्वों से भरपूर है सेहतमंद है।
आयुर्वेद में बादाम का वर्णन भावप्रकाश निघण्टु में  है वाताद नाम से आम्रादि फलवर्ग में वर्णित है। 

बादाम के नाम

हिंदी       बादाम
इंग्लिश   आलमंड
कन्नड़     बादामी
यूनानी     बादाम शिरीन
तमिल     वडूमइ
तेलगु       बादामु
पंजाबी     बादाम
मराठी      बदाम
मल्यालम  बदामकोट्टा
लैटिन       PRUNUS  AMYGDALUS

बादाम के पोषकतत्व

फैट्स
प्रोटीन्स
फाइबर
विटामीन  E ,B
मिनरल्स में कैल्सियम ,मैग्नीशियम, फोस्फरस ,आयरन आदि बादाम से मिलते हैं।

बादाम /( वाताद )/almond  का वर्णन

 बादाम गुरु गुण के और उष्ण होते है इतने भी उष्ण  नहि जैसे कि मरिच और पिपली ,ये वात  को कम करते है और स्निग्ध होने से कफ का पोषण भी करते हैं। बादाम से मज्जा धातु का पोषण होता है , बादाम शुक्रल होने से स्पर्म की क्वालिटी और क्वांटिटी दोनों में इम्प्रूवमेंट होती है।

बादाम का दोषो पर परिणाम

वात  को बैलेंस करता है
थोड़ा पित्तकर  है
कफ का पोषण करता है।

आयुर्वेदिक फ़ॉर्मूलेशन्स

अमृतप्राश  घृत
महामायुर घृत
सौभाग्यशुठि पाक
शुण्ठ्यादि पाक
जीवनीय घृत
आदि कई प्रकर की औषधीया  बनाई जाती हैं।

बादाम  कितने खाने चाहिए ?

बादाम चार से पांच दिनभर के लिए नार्मल इंसान को खाने चाहिए क्योंकि ये पचने के लिए हार्ड होते है।

बादाम किस रीती से खाने चाहिए ?

कई रिसर्च के अनुसार  रातभर भिगोकर बादाम रखे सुबह उठकर छिलके निकालकर  खाली  पेट इसका सेवन करे जिससे पाचन में सुकरता हो और पोषकतत्व शरीर में  आसानी से अब्सॉर्ब  होते है। जिनकी पाचनक्षमता वीक है वो इसी मेथड का प्रयोग करे। बच्चो को पेस्ट कर के दे।
 खैर बादाम किसी भी रीती  से खाए तो पोषकतत्व तो जरूर मिलने है चाहे आप इसे पाउडर करके खाए या पेस्ट या बादाम का दूध बनाले या नमक डालकर इसे रोस्ट करे या फिर वैसे ही रोस्ट कर खा ले।
संस्कारो ही गुणोत्तराधानम। 
जिस तरह से संस्कार होगा तो निश्चित गुणों में परिवर्तन होगा जैसे पचने में हल्का होना ,नमक डालने से थोड़ा पित्त वृद्धि होना इस तरह से।

बादाम के उपयोग

औषधि में
स्वीट्स बनाने में जैसे केक ,बर्फी ,पुड्डिंग्स ,लड्डू बनाने के लिए
डेकोरेशन के लिए
हेल्थ ड्रिंक्स बनाने के लिए ये एक अच्छा  इंग्रेडिएंट है।
बादाम पाउडर ,बादाम पाक ,बादाम लेह ,बादाम हेयर आयल आदि बनाने के लिए

बादाम के फायदे

rosacea  फॅमिली में बादाम को डाला गया है इनके पोषकतत्वों की क्वालिटी जिस एनवायरनमेंट में तैयार होते है और जेनेटिकस पर भी निर्भर है।

इम्युनिटी के लिए बादाम

बादाम में अमिग्डालिन नामक प्रोटीन है इससे लिवर और थायमस  ग्लैंड का पोषण होता है जिनका इम्युनिटी के लिए महत्वपूर्ण पार्ट है यानि हम ये  कह सकते है की ये हेपटोप्रोटेक्टिव है  और बादाम से इम्युनिटी में सुधार आता है।

एलर्जी के लिए बादाम

अधिकतर एलर्जी इम्युनिटी कम होने की वजह से ही होती है तो डाइट में बादाम को शामिल करें। बादाम तैल  नस्य एक्सपर्ट ओपिनियन से करे। एलर्जिक खासी के लिए दूध के साथ बादाम तैल का उपयोग किआ जाता है। बादाम में कुछ एन्टीइन्फ्लमेटरी एजेंट भी पाए जाते है।

बादाम ब्रेन के लिए

दूध के साथ बादाम पाउडर लेना मेमोरी बूस्टर हैं ये nerves  के लिए टॉनिक का काम करता हैं,एनर्जी देता है। बादाम से मज्जा धातु का पोषण होता है।

बादाम एंटी एजिंग में

बादाम में एंटीऑक्सीडेंट होने से टिश्यू डैमेज की रोकथाम ये करते है और विटामिन E का बेस्ट सोर्स है जिससे  सेल्स डैमेज कम होता है। तो स्किन के लिए भी ये बेहतर स्नैक्स हैं।

बादाम ब्लड प्रेशर में

बादाम में मैग्नीशियम है रिसर्च अनुसार मैग्नीशियम की डेफिशियेंसी हाई ब्लड प्रेशर का  कारन हो सकता है इसलिए बादाम को BP पेशेंट्स जरूर डाइट में शामिल करें।

बादाम वेट लॉस के लिए

बादाम गुरु गुण  का याने हैवी फ़ूड हैं ,इसमें जो फैट्स है उससे भूक नहीं लगती है तो जिनका फ़ूड क्रेविंग्स से वजन बढ़ता है वो बादाम खाए। बादाम के प्रोटीन्स और फाइबर पेट को फुल रखने में मदद करते करते हैं। बादाम के सेवन से  बैड कोलेस्ट्रॉल भी काम होता हैं।

बादाम  डायबेटीस में

मैग्नीशियम ब्लड प्रेशर के अलावा शुगर लेवल को भी कंट्रोल करता है जो बादाम में मौजूद है इसलिए सुबह उठकर खालीपेट ये  पेशेंट्स 2 /3 बादाम खाए।

बादाम से बनी रेसिपीज

बादाम दूध
बादाम  हलवा
बादाम बार
बादाम खीर
बादाम लड्डू
बादाम केक्स
बादाम पुड्डिंग्स
बादाम चॉकलेट्स
रोस्टेड बादाम
बादाम ड्रिंक्स

 बादाम से साइड इफ़ेक्ट

ज्यादा बादाम खाने से कॉन्स्टिपेशन ,गैस , जी मचलना हो सकता है पाचन क्रिया बिगड़ती है। इसलिए अपनी पाचनक्षमता नुसार ही इसका सेवन करे।

By admin

One thought on “बादाम के उपयोग,फायदें। USES , BENEFITS OF ALMONDS”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *