Share it

                                                                                                   रीडिंग टाइम-5min.23 sec 

Contents

स्वस्थ त्वचा के लिए हर्ब्स 

5 herbs for healthy skin

बिना खर्च किए प्राकृतिक रूप से त्वचा चमकदार हो तो हर्ब्स का  बेहतरीन उपयोग कर सकते है।  अभी ब्यूटी प्रोडक्ट्स प्राकृतिक द्रव्यों से बना रहे है जिसमे कम से कम  केमिकल्स का इस्तेमाल हो और त्वचा का कोई नुकसान न हो ,  हजारो सालो से नेचुरल हर्ब्स का ही तो उपयोग होता आ रहा है सुंदरता को बढ़ाने के लिए !इन 5 हर्ब्स से त्वचा हेअल्थी होने के साथ चमकदार बनती हैं। 

एलोवेरा / Aloe vera 

पुदीना /Mint 

हल्दी /Turmeric 

मुलेठी /licorice 

तुलसी/Holi basil 

एलोवेरा त्वचा के लिए 

एलोवेरा को संस्कृत में कुमारी भी कहते है यानि की यूथफुल ,एलोवेरा का उपयोग त्वचा के लिए पांच तरीके से काम करती है 
त्वचा की नमी बनी रहती है 
स्किन टाइट होती है जिसे रिंकल्स कम हो जाते है 
स्किन का पोषण होता है और स्किन चमकदार बनती है 
स्किन पर बने घाव ,फोड़े ,फुंसिया, काले दाग कम होते है 
एलोवेरा रसायन वनस्पति है तो स्किन की एजिंग  इससे स्लो होती है। 

एलोवेरा में पाए जाने वाले नूट्रीएंट्स 

विटामिन  A ,C ,E 
बीटा कैरोटीन 

चेहरे के लिए एलोवेरा का उपयोग 

एलोवेरा में  एंटीऑक्सीडेंट्स  पाए जाते है जो त्वचा का फ्री रेडिकल्स से  या सन एक्सपोज़र से होने वाले नुकसान को कम करता है। रसायन वनस्पति होने से त्वचा की एजींग स्लो हो जाती है।  
एलोवेरा पल्प से त्वचा में बननेवाले कोलेजन (collagen ) को सपोर्ट मिलकर उनकी निर्मिति होती है जो डेड सेल को रिमूव कर नए सेल बनाने का काम करते है और इससे त्वचा चमकदार बनना शुरू हो जाता हैऔर त्वचा का ढीलापन कम होता है। रिंकल्स जाते है  
एलोवेरा में पाए जाने वाले विटामिन्स और उसकी एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टी से स्किन पर  बनने वाले फोड़े फुन्सिया उसके घाव या जलने के घाव जल्दी ठीक होते है।
एलोवेरा में पानी की मात्रा ज्यादा होने ( ९८% )से ये त्वचा की नमी बनाये रखता है जिसे त्वचा साफ ,कोमल , सुन्दर दिखने लगती है। त्वचा का खुरदरा  पण कम हो जाता है।  होठो  पर लगाने से होंठो  का कालापन दूर होता हैं। 

एलोवेरा का उपयोग कैसे किया जाना  चाहिए ?

एलोवेरा का लीफ काट ले  कटे हुए लीफ को १०/१५ मिनट बाउल में रख दे ताकि पिले कलर का लिक्विड निकल जाए  उसके बाद ग्रीन पल्प को निकालकर उसे चेहरे पर लगाए बचा हुआ पल्प एयरटाइट जार में फ्रीज़ में रखे दो वीक तक उसका उपयोग कर सकते है। 
पल्प का उपयोग पानी के साथ ,शहद के साथ या  गुलाब जल के साथ कर सकते है। 

पुदीना त्वचा के लिए 

किचन में  सुगंध और टैस्ट के अलावा पुदीना स्किन के लिए भी बेहतर काम करता है ये कही  भी जल्दी मिल जाता है। 
त्वचा की डीप क्लींजिंग 
डार्क सर्कल ,कालापन दूर होता है 
 मुँहासे कम होते  है। 
पुदीना वात ,पित्त ,कफ तीनो दोषो को शमन करता है ,ज्यादा ये पित्त शामक होने से त्वचा का रेडनेस,इंफ्लामेशन दूर करता है 

पुदीने में पाए जाने वाले न्यूट्रिंएट्स 

विटामिन A ,C,E ,K 
एंटीऑक्सीडेंट्स 
फाइबर 
बीटाकैरोटिन 
मेंथोल 

पुदीने के पत्ते चेहरे लिए 

पुदीने के  एंटीऑक्सीडेंट्स त्वचा को ऊर्जा  प्रदान करते है ,सन बर्न ,डर्ट से होने वाले त्वचा का नुकसान कम होता है। त्वचा का पोषण होता  है ,ब्लैकहेड्स  की समस्या कम होती है। रिंकल्स कम होकर निखार  बढ़ता हैं 
एंटीसेप्टिक एन्टीइन्फ्लैमटोरी होने से मुंहासों से छुटकारा मिलता है 
मेंथोल  से त्वचा की डीप क्लींजिंग होकर डेड सेल जाकर  नए सेल की निर्मिति हो  त्वचा का गोरापन ,ग्लो निखरता है। 
मिंट लीव्स में पाए जाने वाले विटामिन से डार्क सर्कल कम होते है। 
चेहरे को हॉटनेस फील  हो या  रेडनेस हो तो कम करने के लिए पत्तो का रस लगा सकते है। 
इससे ब्लड  सर्कुलेशन बढ़ता है जिससे स्किन ब्राइट ,रेडिएंट हो  ,चेहरे का अनइवन टोन  जाकर त्वचा साफ़सूतरी बनती है। 

 पुदीने के पत्तो का चेहरे पर उपयोग कैसे करे ?

मुहासे हो तो फ्रेश पत्तो का जूस  अप्लाई करे १० मिनट बाद चेहरा  धो ले 
डार्क सर्कल के लिए अंडर आय जूस को चेहरा धोकर बाद में लगाए  १० मिनट के बाद धो  ले। 
चेहरे के  कालेपन , दाग के  लिए पानी  और शहद के साथ अप्लाई करे। 

हल्दी त्वचा के लिए 

भारतीय घरो में  हल्दी का महत्व किचेन के अलावा साजशृंगार में पहलेसे ही है। हल्दी को घाव मुँहासे अलसर,कीड़ो का काटना ,और चेहरे का ग्लो अच्छा  करने के लिए यूज  किया जाता है। 

हल्दी में पाए जाने वाले नूटीऐंट्स 

विटामिन C  ,B 6 
फाइबर 
एसेंशियल आयल
एंटीऑक्सीडेंट्स
करक्यूमिन 

हल्दी चेहरे के लिए 

एंटीऑक्सीडेंट्स से सेल डैमेज की प्रक्रिया स्लो डाउन होती है ये समझिये की चेहरे पर जो भी बदलाव ऐज (age )से आने वाले है वो धीरे धीरे आएंगे ,इनसे त्वचा का नेचुरल ग्लो वापस आता है त्वचा चमकदार बनती है। 
टर्मेरिक में नैचुरली ब्लीचिंग  पावर होने से त्वचा की क्लीनिंग होती है त्वचा कोमल  बनती है खुरदरा पण कम होता है। 
करक्यूमिन जो एक्टिव द्रव्य इसमें है जिससे  त्वचा का इंफ्लामैशन दूर होता है एंटीसेप्टिक प्रॉपर्टी से मुहांसो में कमी  आना शूरू हो जाता है ,  चेहरे पर ज्यादा बाल आते हो तो सही मात्रा में हल्दी पाउडर का उपयोग इसपर होता है। 
एंटीइंफ्लेमटरी प्रॉपर्टी से त्वचा पर आने वाले एक्ने स्कार ,दाग  दूर होते है। 
हल्दी ऑयली स्किन के लिए बेहतर है इससे सेबेसियस ग्लैंड का काम रेगुलेट होने लगता है और चेहरे से ज्यादा आयल निकलना कम हो जाता है 

हल्दी का उपयोग चेहरे पर किस तरह कर सकते है ?

चेहरे पर लगाने के लिए क्यूरकुमा अरोमाटिका  (कस्तूरी हल्दी ) का उपयोग करे जो सिर्फ लोकल एप्लीकेशन के लिए उपयोग की जाती है इसका स्टैन कम दीखता है। 
चेहरे पर लगाने से पहले इसे थोड़ा टेस्ट कर देखे की हल्दी से आपको कोई एलर्जी तो नहीं है हल्दी उष्ण गुणधर्म की होने से ये कई बार सूट नहीं करती है तो टेस्ट करके चहरे पर लगाना शुरू करे 
हल्दी का स्टेन  निकलने में काफी समय लगता है बेहतर है इसे कम मात्रा में 
एलोवेरा पल्प 
शहद 
दूध 
दही  
आदि  बेस का उपयोग करें , थोड़ी मात्रा लेकर चेहरे पर लगाए। 

मुलेठी त्वचा के लिए 

मुलेठी के मूली का उपयोग स्किन के प्रॉब्लम में किया जाता है। आयुर्वेद में इसका उपयोग श्वासवह,पचन वह संस्थान की प्रॉब्लम में किया जाता है। ये एक रसायन वनस्पति है जिससे  त्वचा का पोषण हो  ,चमकदार स्वस्थ त्वचा  प्राप्त होती हैं। आयुर्वेदिक मेडिसिन में इसे त्वचा के अलावा हेयर केयर रूटीन में भी उसे किया जाता है इसे बने हेयर मास्क से डैंड्रफ की समस्या कम होती है।  मुलेठी त्वचा के बढे हुआ वात  और पित्त का शमन करती है 
मुलेठी त्वचा को नमी देता है 
त्वचा की क्लींजिंग 
त्वचा में जमा होने वाले टॉक्सिंस दूर होते है। जिससे त्वचा को नैचुरली गोरापन आ जाता है 

मुलेठी के नुट्रिएंट्स 

एंटीऑक्सीडेंट्स
 लिक्विरीन  एक्टिव कंपाउंड 
300 फ्लेवेनॉयड्स 

मुलेठी रुट पाउडर चेहरे के लिए 

एंटीऑक्सीडेंट प्रॉपर्टी होने से त्वचा की नमी ताजापन कायम रहकर त्वचा कोमल बनती है ,ड्रायनेस दूर होता है 
फ्री रेडिकल्स से त्वचा का बचाव होता है। चेहरे की कसावट ठीक होती है। 
लिक्विरीन कंपाउंड से त्वचा की डीप क्लीनिंग   होकर चहरे का ग्लो बढ़ता है ,त्वचा में एक्स्ट्रा मेलेनिन जमा होने से आए हुए कालेपन दाग  धब्बे ,सनबर्न से हुए  टैनिंग को इससे कम किया जा सकता है। 
चेहरे  पर आने  वाले एक्ने ,जो एक्स्ट्रा ऑइल निर्माण से  से बनते है मुलेठी एक्स्ट्रा आयल कम  करती है जिससे मुहासे बनना कम हो जाता है। 
मुलेठी में एंटीऑक्सीडेंट ,लिक्विरीन के अलावा glycerizin, 300 flavoinoids  पाऐ  जाते है. जिसमे antimicrobial प्रॉपर्टी है जो  इन्फेक्शन को दूर  करता है जिससे पस ,ब्लैकहैड,whitehead , एक्ने से रहत मिलती है। इस तरह इन आयुर्वेदिक मेडिसिनल हर्ब्स से स्किन को नया रूप मिल जाता है। 

चेहरे पर कैसे उपयोग करें  

 क्वालिटी पाउडर का उपयोग करे। .उपयोग करने से पहले पैच टेस्ट करके देखे 
पाउडर का उपयोग एलोवेरा  पल्प ,शहद,पानी ,दूध अदि बेस लेकर कर सकते है 
स्किन ज्यादा ऑइली हो तो सिर्फ पानी या शहद के साथ लगाए। 

तुलसी त्वचा के लिए 

तुलसी घर घर में लगाई जाती है इसे पोधो की रानी भी कहा जाता हैं परंपरागत इसे बहोत सारे  नुस्खों में वर्णित किया हैं। 

तुलसी के नुट्रिएंट्स 

विटामिन्स A ,C ,K 
फाइबर 
मिनरल्स 
ओलेनोलिक एसिड 
रोज़मेरिनिक एसिड 
एसेंशियल ऑइल 

चेहरे के  लिए तुलसी 

 तुलसी में पाए जाने वाले  एसेंशियल ऑइल  से  त्वचा की अंदरूनी सफाई हो कर कालापन , दाग  फीके पड़ने लगते है  चेहरे के पोअर्स ओपन जाते है , ब्लड सर्कुलेशन ठीक होने से त्वचा हेअल्थी बनती है। चेहरे पर ग्लो आता है। 
सभी एंटी प्रॉपर्टी इस जादुई पौधे  जैसे antimicrobial ,एन्टीइन्फ्लैमटोरी ,एंटीसेप्टिक ,  भरपूर होने से फ्री रेडिकल्स से बचाव ,मुहासे ठीक होते है। 
एंटीऑक्सीडेंट्स  से  स्किन  सॉफ्ट स्मूथ बनती है स्किन की  एजिंग प्रोसेस स्लो  हो जाती है। 
तुलसी त्वचा के लिए अच्छा टोनर है।   

चेहरे के लिए कैसे उपयोग करें ?

फ्रेश पत्तो को जूस लेकर अप्लाई करे। 
त्वचा ज्यादा सेंसिटिव हो तो पानी शहद के साथ लगाए। 
चेहरे पर ऑइल  ज्यादा  हो तो फ्रेश लीव्स पानी में उबालकर छान ले बोतल में भरकर फ्रीज़ में रखे और एक हफ्ते तक ही इस पानी को चेहरे पर दिन में दो बार इस्तेमाल करे।  
 
   

By admin

2 thoughts on “5 herbs to make your skin healthy and bright । इन 5 हर्ब्स से बनाए त्वचा को स्वस्थ और चमकदार”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *